सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगने पर घिरे तेलंगाना सीएम चंद्रशेखर राव, असम पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया

बीजेपी समर्थकों ने देश विरोध भावनाओं को उकसाने का लगाया आरोप

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के॰ चंद्रशेखर राव के खिलाफ पाक अधिकृत कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक पर फिर से विवाद खड़ा करने पर मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होने एक दिन पहले ही केंद्र सरकार से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे थे। इसके बाद बीजेपी समर्थकों ने राव के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई। असम पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी समर्थकों ने देश विरोधी भावनाओं को उकसाने के लिए सीएम चंद्रशेखर राव के खिलाफ शिकायत की थी जिसके आधार पर असम पुलिस ने मामला दर्ज किया है।

उल्लेखनीय है कि सोमवार को चंद्रशेखर राव ने बयान दिया था, जिसमें उन्होंने बीजेपी सरकार को सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत पेश करने के लिए कहा था। सीएम ने कहा था कि, मैं आज भी सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांग रहा हूं। बीजेपी सरकार को सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत पेश करने चाहिए। बीजेपी झूठा प्रचार करती है। सेना सीमा पर लड़ रही है। कोई मर रहा है, तो वह सेना के जवान हैं। उन्हें इसका श्रेय देना चाहिए, लेकिन बीजेपी राजनीतिक रूप से सर्जिकल स्ट्राइक का उपयोग कर रही है। 

गौरतलब है कि चंद्रशेखर राव का यह बयान असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा की टिप्पणी के बाद आया था। शुक्रवार को असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा था कि जनरल बिपिन राव देश का गौरव थे। उनके नेतृत्व में भारत ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। आज राहुल गांधी सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगते हैं। क्या हमने आज तक सबूत मांगा है कि राहुल गांधी राजीव गांधी के ही बेटे हैं। उनको मेरे देश की सेना से सबूत मांगने का अधिकार किसने दिया।

इस टिप्पणी के बाद तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से असम सीएम हेमंत बिस्वा  को बर्खास्त करने की मांग की थी। सर्जिकल स्ट्राइक अपने इस बयान के बाद तेलंगाना सीएम चंद्रशेखर राव हर तरफ से घिर गए हैं। उनके इस बयान की हर जगह आलोचना हो रही है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर और किशन रेड्डी भी उनके इस बयान की आलोचना कर चुके हैं। वहीं,  सामाजिक माध्यमों पर देश भर में लोग उन पर अपना गुस्सा निकाल रहे हैं।

Send this to a friend