पीएम मोदी की सुरक्षा में चूक मामले में जांच के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तीन सदस्यीय कमेटी गठित की

मामले की जांच करके जल्द से जल्द रिपोर्ट देने का निर्देश

पंजाब में प्रधानमंत्री की सुरक्षा में हुई गंभीर चूक के मामले में जांच के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक समिति का गठन किया है। इस तीन सदस्यीय समिति का नेतृत्व सुधीर कुमार सक्सेना, सचिव (सुरक्षा), कैबिनेट सचिवालय करेंगे। समिति को जल्द से जल्द रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा गया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस घटना को सुरक्षा में बड़ी चूक करार दिया है। मामले में जिम्मेदारी तय करने और जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के अलावा राज्य सरकार से तत्काल रिपोर्ट भी मांगी है।

देश भर में इस हादसे पर जनता की रोषपूर्ण प्रतिक्रियाओं और राजनीतिक आरोपों-प्रत्यारोपों के 24 घंटे बाद कांग्रेस आलाकमान ने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से बात की। जानकारी के मुताबिक सोनिया गांधी ने चन्नी से कहा कि नरेंद्र मोदी पूरे देश के प्रधानमंत्री हैं, इसलिए उनकी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाना चाहिए। साथ ही कहा कि मामले में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

दूसरी तरफ पंजाब के सीएम चन्नी का कहना है कि पीएम सुरक्षा में कोई चूक नहीं हुई है। उन्होने सोनिया गांधी को बताया कि पंजाब सरकार इस मामले की जांच करवा रही है। इसके लिए राज्य सरकार ने एक कमेटी गठन किया है। जिसमें सेवामुक्त जस्टिस मेहताब सिंह गिल और राज्य के गृह सचिव अनुराग वर्मा शामिल है। कमेटी को तीन दिन में रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। जो भी जिम्मेदार होगा, उसके खिलाफ सरकार कार्रवाई करेगी।

हालांकि एक तरफ सीएम चन्नी ने मामले की जांच के लिए कमेटी गठित की है लेकिन उनके बयान इसके विपरीत हैं। अभी भी चन्नी प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक से इनकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि पीएम मोदी ने ही आखिरी वक्त में सड़क से जाने का कार्यक्रम बनाया। अब पीएम की सुरक्षा में चूक के बहाने पंजाब और पंजाबियों को बदनाम किया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कहीं ऐसा तो नहीं कि मोहरे को इस प्रकार का आदेश देकर परिवार ने अपना पल्ला झाड़ लिया है। सोनिया गांधी का कथन सामने आने के बाद स्मृति ईरानी ने कहा कि जनता की प्रार्थना, जनता की चिंता को देखकर गांधी उनका ये कथन सामने आया है। कम से कम सोनिया गांधी ने इस बात को स्वीकारा कि दोषी कांग्रेस की प्रदेश सरकार और प्रशासन है।

Send this to a friend